रविवार, 22 मार्च 2009

दिलकी राहें.........

बोहोत वक़्त बीत गया,
यहाँ किसीने दस्तक दिए,
दिलकी राहें सूनी पड़ीं हैं,
गलियारे अंधेरेमे हैं,
दरवाज़े हर सरायके
कबसे बंद हैं !!
पता नही चलता है
कब सूरज निकलता है,
कब रात गुज़रती है,

2 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sundar kavitaayen padhee shama jee , choti kavita gahre bhav saral shabdavali behatareen ... shukriyaa
    aapke sarthak lekhan hetu subhkamnaaye
    pradeep manoria
    094 251 32060

    उत्तर देंहटाएं
  2. chand shabdon mein bebashi ko khoob saheja hai aapne ..
    ab tak aapka gadh padha par kavita bhi gahre bhaav liye hue hai

    उत्तर देंहटाएं