बुधवार, 23 सितंबर 2009

उतारूँ कैसे?

इक बोझ-सा है मनमे,
उतारूँ कैसे?
कहने को बहुत कुछ है,
कहूँ कैसे?
वो अल्फाज़ कहाँसे लाऊं,
जिन्हें तू सुने?
वो गीत सुनाऊं कैसे,
जो तूभी गाए?
लिखा था कभी रेत पे,
हवा ले गयी उसे...
गीत लिखे थे पानी पे,
बहा गयी लहरें उन्हें!
ना कागज़ है, ना क़लम है,
दास्ताँ सुनाऊँ कैसे?
ख़त्म नही होती राहें,
मै संभालूँ कैसे?
इक बोझ-सा है मनमे,
उतारूँ कैसे?

20 टिप्‍पणियां:

  1. " bahut hi shandar rachana ke liye aapko badhai .gazab ka aagaz hai aapki kalam me ...mann, hawa,pani ...waw...

    " na kagaz hai ,na kalam hai,

    dastaan sunau kaise ?

    khatm nahi hoti raahen,

    main sambhalu kaise ?"

    " kya baat hai ...bahut hi shandar rachana ke liye aur is se bhi jyada...alfaz ki pasandgi ke liye aapko bahut bahut badhai shamaji."

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    http://hindimasti4u.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. shama ji happy dashhara .navraatri ki tayari me vyast rahi aur isi wazah se aapse jo kahana hai nahi kah paa rahi ,pahali fursat milte hi jawab dungi tab tak dhayan banaka rakkhi hoon .rachana bahut hi khoobsurat hai .is safar ke kai padav hai ,wahan bhi thaharna hai .phir aati hoon .

    उत्तर देंहटाएं
  3. shama ji

    namaskar
    deri se aane ke liye maafi

    aapki kavitaye to hamesha hi dil ko chooti hai ..kya kahun .. hum sab ke bheetar ek -na-ek daastan chupi hui hai .. jo ki akasar hum shabdo ke zariye kaagaz par utaarte hai ..

    bahut acchi aur sacchi kavita ..

    meri badhai sweekar karen..

    regards

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना, अहसासों से पूर्ण.

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक बोझसा मन में हैं उतारू कैसे ?

    जैसे हाथी पे सवार बच्चो को महावत
    उतारता हैं / गहरी बात हैं सोचना आप /

    आपके शब्द बहुत अच्छे हैं, कविता बेहद अर्थपूर्ण हैं.

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. इतनी बढ़िया कविता और इतना देर से पढ़ पाया क्षमा करें...बहुत बढ़िया रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. लिखा था कभी रेत पे,
    हवा ले गयी उसे...
    गीत लिखे थे पानी पे,
    बहा गयी लहरें उन्हें!

    kya khoob kaha hai! wah....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ना कागज़ है, ना क़लम है,
    दास्ताँ सुनाऊँ कैसे?
    ख़त्म नही होती राहें,
    मै संभालूँ कैसे?
    इक बोझ-सा है मनमे,
    उतारूँ कैसे?

    बहुत खूबसूरत भाव सुन्दर शब्दों में-----
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  9. यही तो तरीका है बोझ उतारने का....
    अच्छी लगी कव‍िता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. होली आती है और लाती है सपने रंग-बिरंगे...
    आपके सपनो को करे सच
    मेरी है यही शुभकामना होली के इस अवसर पर

    उत्तर देंहटाएं
  11. कविता अच्छी लगी !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर कविता |नववर्ष की शुभकामनायें शमा जी |

    उत्तर देंहटाएं
  13. नववर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    उत्तर देंहटाएं
  14. नव वर्ष पर हार्दिक शुभ कामनाएं |बहुत सुन्दर शब्दों से सजी भावपूर्ण रचना
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं